नई दिल्ली, जेएनएन। Monsoon and Weather Updates: देश के अधिकतर राज्यों में मानसून ने अपनी पहली बारिश से लोगों को भीगो दिया है तो कहीं प्री-मानसून की बरसात से मौसम सुहाना बना हुआ है। केरल से शुरू हुए मानसून ने पूरे दक्षिण को भिगाने के बाद देश के अधिकतर राज्यों को भिगोया। आलम यह रहा है कि इस मानसूनी बारिश से महाराष्ट्र पानी-पानी हो गया। यहां पर जलभराव जैसी दिक्कतों का लोगों को सामना करना पड़ा। वहीं उत्तर भारत के लोगों को अब मानसून भिगोने के लिए तैयार था। मौसम विभाग ने आज या कल तक पंजाब, हरियाण दिल्ली में मानसून की पहुंचने की भविष्यवाणी कर दी थी, लेकिन अब ताजा खबर है कि पछुआ हवाओं के कारण मानसून की रफ्तार धीमी हो गई है।

यानी अब पछुआ हवाओं के चलते उत्तर भारत में मानसून देरी से पहुंचेगा। ऐसे में यहां के लोगों को मानसून का थोड़ा इंतजार जरूर करना पड़ सकता है। इन क्षेत्रों में अब कुछ दिनों की देरी से मानसून पहुंचेगा। यह पूर्वानुमान सोमवार को भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) ने व्यक्त किया। आइएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने बताया कि मौसम विभाग ने दक्षिण-पश्चिम मानसून के 15 जून तक दिल्ली पहुंचने की उम्मीद जताई थी। हालांकि, मौजूदा परिस्थितियों में ऐसा होने की संभावना नहीं है। आइएमडी की ओर से बताया गया कि मानसून की प्रगति की लगातार निगरानी की जा रही है। दैनिक आधार पर आगे की सूचना दी जाएगी।

उत्तरांखड में 13 जून को पहुंचा मानसून

उधर, उत्तराखंड में भी मानसून पहुंच चुका है। अनुमानित समय से एक सप्ताह पूर्व मानसून ने उत्तराखंड में दस्तक दे दी है। पिछले 14 साल में यह दूसरा मौका है जब उत्तराखंड में मानसून ने 13 जून को ही आ गया है। केरल से मानसून को उत्तराखंड पहुंचने में महज 10 दिन का समय लगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप