सीरियल किलर: 6 साल में 20 महिलाओं का मर्डर, कोर्ट ने फांसी की सजा उम्रकैद में बदली

कर्नाटक हाईकोर्ट ने सीरियल किलर के दोषी मोहन कुमार की अनीता हत्या मामले में फांसी की सजा को गुरुवार को उम्रकैद में तब्दील कर दिया। मोहन ने वर्ष 2003 से 2009 के बीच 20 महिलाओं के साथ बलात्कार करने के बाद उनकी सायनाइड युक्त टेबलेट देकर हत्या कर दी थी।

न्यायमूर्ति रवि मालिमठ और न्यायमूर्ति जॉन माइकल कुन्हा की खंडपीठ ने जेल अधिकारियों को निर्देश दिया कि मोहन कुमार को ताउम्र रिहा न करें और उसे किसी तरह की छूट न दें। 

मोहन कुमार ने वर्ष 2009 में अनीता से शादी का वादा करके उसे बंटवाल से हासन ले गया। उसने अनीता के साथ बलात्कार किया और उसे एक बस स्टैंड पर ले गया। वहां उसने अनीता को गर्भ निरोधक टेबलेट दिया जो सायनाइड युक्त थी। टेबलेट खाने के बाद अनीता की मौत हो गई।

मोहन कुमार ने वर्ष 2003 से 2009 के बीच 20 महिलाओं के साथ बलात्कार करने के बाद उनकी सायनाइड युक्त टेबलेट देकर हत्या कर दी थी। उसे चार मामलों में आजीवन कारावास की सजा तथा तीन प्रकरणों में फांसी की सजा सुनाई गई है। मोहन कुमार ने फांसी की सजा को उम्रकैद में तब्दील करने की उच्च न्यायालय से गुहार लगाई थी।

News source: http://www.livehindustan.com/national/story-karnataka-high-court-reduces-serial-killer-cyanide-mohan-death-penalty-to-life-1593608.html