India

भारत के खिलाफ चीनी आक्रामकता का अमेरिका में विरोध, कई समुदायों के लोग हुए शामिल

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

चीन की भारत के साथ बढ़ती आक्रामकता और शिनजियांग प्रांत में उइगर मुस्लिमों व अल्पसंख्यक समूहों के साथ मानवाधिकार उल्लंघन पर दुनिया भर में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। अमेरिकी राजधानी और उससे लगे क्षेत्रों में भारतीय-अमेरिकियों के एक समूह ने यहां जबरदस्त प्रदर्शन किए जिसमें वियतनाम के अमेरिकी नागरिक और तिब्बती समुदाय के लोग भी शामिल हुए।
कैपिटल हिल के बाहर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने नारे लगाए और यहां स्थित ऐतिहासिक राष्ट्रीय मॉल पर एकत्रित होकर उन्होंने चीन विरोधी पोस्टर-बैनर लहराए। प्रदर्शनकारियों ने मास्क पहनकर शारीरिक दूरी बनाए रखी और शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन किया।
वियतनाम के अमेरिकी समुदाय के नेता मैक जॉन ने कहा, हम यहां कम्युनिस्ट ज्यादतियों के कारण आए हैं हमारी चीन लोगों से कोई शत्रुता नहीं। इसी तरह, ओवरसीज फ्रैंड्स ऑफ बीजेपी यूएस के वरिष्ठ नेतृत्वकर्ता अदापा प्रसाद ने कहा, इन गर्मियों में जब पूरी दुनिया कोरोना वायरस से लड़ रही थी तब चीन दूसरे की जमीन पर अतिक्रमण की कोशिश में जुटा था। यह बात सिर्फ भारत में लद्दाख की ही नहीं, बल्कि उसके दूसरे पड़ोसियों के संबंध में भी है। अब समय है कि विश्व इस चीनी आक्रमकता के खिलाफ एकजुट हो।

भारत की पीठ में छुरा घोंपा


भारतीय मूल के अमेरिकी रिपब्लिकन एवं प्राउड अमेरिकन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी के संस्थापक पुनीत अहलुवालिया ने कहा, चीन के विरोध में राष्ट्रपति ट्रंप की कार्रवाई एकदम सही दिशा में है। वर्जीनिया के लेफ्टिनेंट गवर्नर बनने की दौड़ में शामिल अहलुवालिया ने कहा कि चीन को अंतरराष्ट्रीय नियम मानने ही होंगे। उसने अफ्रीका, ईरान में जो कुछ किया सब जानते हैं लेकिन चीन ने बारत की पीठ में भी छुरा घोंपा है।

नरेंद्र मोदी की प्रशंसा


ग्रेटर वाशिंगटन डीसी इलाके से प्रख्यात भारतीय-अमेरिकी सुनील सिंह ने भारत में चीनी एप प्रतिबंधित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले की प्रशंसा की। उन्होंने कहा, भारत के लोगों ने चीनी सामान खरीदना बंद कर दिया है, अमेरिकियों को भी ऐसा ही कदम उठाने की जरूरत है।

Football news:

मेस्सी और रोनाल्डो के बाद अगले: डे चोटाइन पर कैरेघर । इस प्रीमियर लीग में सबसे अच्छा खिलाड़ी है
Morata में पहुंचे ट्यूरिन. उन्होंने कहा कि ऋण पर जौव को जाता है
बार्सिलोना वह लिवरपूल के लिए ले जाया गया इससे पहले कि साबूदाना खरीदना चाहता था. कैटालान 10 लाख यूरो का भुगतान करने के लिए तैयार थे
पीईपी ओ 3:1 के साथ वॉल्वरहैम्प्टन: कभी कभी आदमी के शहर में प्रवेश की सिफारिश की जल्दी है, कभी कभी वे नहीं है. हम अच्छी तरह से खेला
केविन डी चोटाइन: वॉल्वरहैम्प्टन से पहले आदमी शहर की समस्याओं का कारण है । मुझे लगता है हम अच्छी तरह से खेला कि खुश हूँ
स्टीफन पिकोली: मिलान विश्वास कर रहे हैं, उनके दांत धैर्य और लड़ सकते हैं. ज़्लॉतान साबित होता है कि वह एक चैंपियन
इब्राहिमोविच बोलोग्ना डबल पर: मैं 20 साल छोटा था, तो मैं एक जोड़े को और अधिक रन बनाए हैं होगा । लेकिन मैं बूढ़ा नहीं हूँ