India

लॉकडाउन में फार्मकार्ट बना किसानों का मददगार, पीएम मोदी ने भी सराहा

बड़वानी। कृषि नवाचार समाधान कंपनी फार्मकार्ट ने किसानों के हित में सराहनीय कार्य किया। लॉकडाउन में जब देशवासी मूलभूत वस्तुओं के लिए भी तरस रहे थे तब फार्मकार्ट किसानों को खेती के सामान घर पर ही उपलब्ध करा रहा था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मन की बात की 70वीं कड़ी में ई-प्लेटफॉर्म फार्मकार्ट द्वारा किए गए कार्यों की जमकर प्रशंसा की।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा, 'मध्यप्रदेश के बड़वानी में अतुल पाटीदार अपने क्षेत्र के 4,000 किसानों को डिजिटल रूप से जोड़ चुके हैं। यह किसान अतुल पाटीदार के ई -प्लेटफॉर्म फार्मकार्ट के जरिए खेती के सामान जैसे खाद, बीज, पेस्टिसाइड आदि की होम डिलीवरी पा रहे हैं यानी किसानों को घर तक उनकी ज़रूरत की चीज़ें मिल रही हैं। इस डिजिटल प्लेटफॉर्म पर आधुनिक कृषि उपकरण भी किराए पर भी मिल जाते हैं।

लॉकडाउन के समय भी इस डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिए किसानों को हजारों पैकेट डिलीवर किए गए जिसमे कपास और सब्जियों के बीज भी थे। अतुल जी और उनकी टीम किसानों को तकनीकी रूप से जागरूक कर रही है, किसानों को ऑनलाइन पेमेंट और खरीदारी भी सिखा रही है।

फार्मकार्ट को मिली इस प्रशंसा पर संस्थापक और सीईओ अतुल पाटीदार ने कहा कि यह बात हमारे लिए बहुत ही मायने रखती है कि देश के प्रधानमंत्री माननीय नरेन्द्र मोदी जी ने फार्मकार्ट के तकनीकी नवाचार समाधानों और प्रयासों को सराहा है। फार्मकार्ट और उसकी टीम के उत्साहवर्धन के लिए मैं प्रधानमंत्री जी का ह्रदय से आभारी हूं।

'मन की बात' में फार्मकार्ट
के उल्लेख ने हमारी टीम में एक नई शक्ति का संचार किया है, जो आने वाले समय में हमें और बेहतर करने के लिए प्रेरित करेगा।

युवा उद्यमी अतुल पाटीदार बड़वानी के एक किसान परिवार से हैं, जिन्होंने कुछ वर्षों पहले कनाडा में रह रहे अपने कुछ साथियों के साथ किसानों का जीवन सुलभ और सरल बनाने के लिए फार्मकार्ट की शुरुआत की थी। अतुल विश्व के सर्वोत्तम विश्वविद्यालयों से 4 स्नातकोत्तर उपाधियों
प्राप्त कर चुके हैं और
कई जानी मानी कंपनियों जैसे सैमसंग और फोर्ड के लिए भी काम कर चुके हैं।

फिलहाल, फार्मकार्ट
के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से ग्रामीण किसानों को सात सौ से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय स्तर के उत्पाद और खेती संबंधी हर ज़रूरी जानकारी उपलब्ध है। हाल ही में, फार्मकार्ट ने कृषि उत्पाद और सेवाओं के लिए ई-कॉमर्स एप्लीकेशन भी लांच की है। यह कृषि की दृष्टि से देश का पहला व्यापक प्लेटफॉर्म है।

फार्मकार्ट के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर की विश्वसनीय कंपनियों के बीज, फर्टिलाइजर, कीटनाशक और सिंचाई सम्बन्धी संशाधन उपलब्ध हैं। फार्मकार्ट का मुख्य कार्यालय बड़वानी मध्य प्रदेश में स्थित है और कंपनी की स्ट्रेटेजी टीम टोरंटो कनाडा में हैं।

फिलहाल, फार्मकार्ट
अपने ई- कॉमर्स प्लेटफॉर्म के जरिए मध्यप्रदेश में करीब 1200 स्थानों में 150,000 किसान फार्मकार्ट द्वारा वितरित उत्पादों और सेवाओं का लाभ ले रहे हैं।

फार्मकार्ट के चेयरमैन अनूप मंडलोई के अनुसार, 'हम ऐसे शिक्षित युवाओं की तलाश कर रही है जो ग्रामीण भारत में रोज़गार को एक अवसर की तरह देखकर उसका लाभ उठाना चाहते हों। इसके लिए कंपनी आईआईएम और सिम्बायोसिस जैसे संस्थानों की प्लेसमेंट प्रक्रिया में भी हिस्सा ले रही है।'

कंपनी की विस्तार योजना में, कृषि सलाह या कंसल्टेंसी सेवाओं का भी विस्तार भी शामिल है। इसके लिए फार्मकार्ट एग्री-निदान एप भी लांच करेगी। इसके माध्यम से फार्मकार्ट कृषि-परामर्श का प्रजातंत्रीकरण करना चाहती है। ऐसा होने पर, एग्री-निदान एप से किसान दुनिया भर के जाने-माने कृषि विशेषज्ञों की सलाह ले पाएंगे।

Football news:

हमारे सभी क्लबों चैंपियंस लीग खेलने नापसंद के बिना छोड़ दिया गया. कौन सबसे निराश?
लुका मॉडरिक: एक प्रतिद्वंद्वी का नेतृत्व लेता है, असली आत्मविश्वास खो देते हैं । हम एक मुश्किल स्थिति में हैं, लेकिन यह क्या है, वह यह है कि
राक्षसी प्रसव के raikovich और मुरिलो: एक करने के लिए बाहर लुढ़का प्रतिद्वंद्वी नीले रंग से बाहर, अन्य बस गिर गया 🤦 ♂ ️
सख्तार से हार पर क्रूस: अंत में, हम वापस जीत सकते हैं कि विश्वास का अभाव
जिनेदीन जिदाने: मैं सेवानिवृत्ति के बारे में नहीं सोचता
लोको भी तीसरे स्थान खो दिया है । साल्जबर्ग 5 केंद्रीय रक्षकों के साथ टीम को कुचल दिया
रोनाल्डो गोल्डन पैर जीता-2020, अगनेल्ली-गोल्डन पैर प्रेस्टीज-2020