नई दिल्ली, प्रेट्र। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का मानना है कि चंबल एक्सप्रेसवे से तीन राज्यों के गरीब और आदिवासी इलाकों का कायाकल्प हो जाएगा। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय का जिम्मा संभाल रहे गडकरी के मुताबिक इस परियोजना से मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के सुदूर इलाकों में स्थित गरीबों और आदिवासियों की जिंदगी में बड़े बदलाव आएंगे।

चंबल एक्सप्रेसवे परियोजना 8,250 करोड़ रुपये की है। उन्होंने संबंधित राज्यों से इस परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण के कार्य में तेजी लाने का आग्रह किया।स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना के दिल्ली-कोलकाता कॉरिडोर, उत्तर-दक्षिण कॉरिडोर, पूरब-पश्चिम कॉरिडोर और दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे को भी चंबल एक्सप्रेसवे क्रॉस कनेक्टिविटी मुहैया कराएगा।

इस परियोजना की समीक्षा करते हुए गडकरी ने कहा कि इसका सबसे अधिक फायदा इन तीनों राज्यों और चंबल क्षेत्र के किसानों को होगा। लेकिन खासतौर पर मुरैना, श्योपुर और अन्य इलाकों के आदिवासियों के लिए यह एक्सप्रेसवे वरदान साबित होगा। यह केंद्र और राज्यों के बीच भी इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास के नवीनतम मॉडल के रूप में उभरेगा।

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस