नई दिल्ली, जेएनएनl अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म 'दिल बेचारा' संजना संघी की पहली फिल्म थींl इस फिल्म साथ ही मुकेश छाबड़ा भी पहली बार निर्देशक बन रहे थे। सुशांत के निधन के बाद संजना संघी ने पहली बार एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से सुशांत सिंह राजपूत के साथ काम करने के अपने अनुभव के बारे में बात की हैंl उन्होंने बताया कि सुशांत से उनकी पहली बार मुलाकात मुकेश छाबड़ा द्वारा आयोजित एक कार्यशाला में फिल्म की कहानी पढ़ने के दौरान हुई थीं।

संजना ने खुलासा किया कि चूंकि दोनों कलाकार अकादमिक उपलब्धि हासिल करने वाले थेl इसलिए उनमें बॉन्डिंग होने में ज्यादा समय नहीं लगा। दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून, 2020 को अपने बांद्रा स्थित आवास पर आत्महत्या कर लीl जिससे उनके प्रशंसकों, परिवार और फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को सदमा लगा। मुंबई पुलिस फिलहाल आत्महत्या मामले की जांच कर रही है।

सुशांत को याद करते हुए संजना ने एक स्क्रिप्ट रीडिंग सेशन में अपनी पहली मुलाकात के बारे में बताया, 'हम दोनों ने स्क्रिप्ट को अंतिम शब्द तक पढ़ा था और हमारी दोनों की प्रतियां ऐसी लग रही थीं जैसे कि वे पुराने उपन्यास हैं। मुकेश ने मुझे आराम करने के लिए कहा और हम सभी की आपस में दोस्ती हो गई।' 

संजना ने आगे बताया कि शिक्षा के अलावा भोजन उन दोनों के बीच की बॉन्डिंग का एक बड़ा कारण था। वह कहती है, 'मुकेश, सुशांत और मैं सभी अच्छा भोजन करना पसंद करते है। डाइनिंग टेबल पर खाना देखने के बाद हमने फर्श पर बैठकर खाने का फैसला कियाl एक चटाई पर बैठकर हम अपना भोजन करने लगे। उन्होंने मुझसे कहा कि मैं कितना खाना खा सकती हूंl शिक्षा के अलावा भोजन से भी हमारी बॉन्डिंग बढ़ी। खाने के दौरान मेरे पिता द्वारा मुझे एक मैसेज भेजा गया थाl इसमें लिखा था कि उन्हें एक पत्र मिला है जिसमें लिखा गया है कि मैं दिल्ली विश्वविद्यालय में गोल्ड मेडलिस्ट बन गई हूं। सुशांत, मुकेश और पूरी टीम इस खबर को सुनकर उत्सुक थेl सुशांत के बारे में सबसे अच्छी बात यह थी कि अकादमिक और सिनेमा में उनके टक्कर का कोई भी नहीं थाl उन्होंने जो वैल्यू सिखाये है, उन्हें मैं जीवन भर सहेजकर रखूंगी।'

Posted By: Rupesh Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस